Share

स्पार्क इंडिया के कौशल विकास तथा प्लेसमेंट कार्यक्रम का उद्घाटन

लखनऊ ।। सन् 1995 में विकलांग कल्याण विभाग की स्थापना हुयी थी तब से लेकर वर्तमान सरकार के सत्ता में आने तक यह विभाग सुषुप्ता अवस्था में था, लेकिन वर्तमान सरकार के छः महीने के ही अल्प कार्यकाल में विभाग को नयी पहचान मिली है। प्रदेश के पिछड़ा वर्ग कल्याण एवं दिव्यांग जन विकास मंत्री श्ओम प्रकाश राजभर ने यह विचार आज यहां निशातगंज स्थित दिव्यांगजन सशक्तीकरण विभाग में स्पार्क इंण्डिया के कौशल विकास तथा प्लेसमेन्ट कार्यक्रम के उद्घाटन समारोह के दौरान व्यक्त किया।

Minister Om Prakash Rajbharउन्होंने कहा कि प्रदेश सरकार ने केन्द्र सरकार की तर्ज पर विभाग को विकलांग कल्याण विभाग के स्थान पर दिव्यांगजन कल्याण विभाग नाम दिया। राजभर ने कहा कि दिव्यांगजन की भलाई हेतु वर्तमान सरकार निरंतर प्रयासरत है। उनको दिया जाने वाला पेंशन भत्ता 300 रूपये से बढ़ाकर 500 रुपये मासिक कर दिया गया है। दिव्यांग बालिकाओं के विवाह हेतु दिये जाने वाली धनराशि को बढ़ाकर 35000 रुपये कर दिया गया है तथा शल्य चिकित्सा हेतु 10000 रुपये की धनराशि की व्यवस्था की गयी है।

उन्होंने कहा कि दिव्यांगजन को रेल यात्रा में थर्ड ए.सी. की लोवर वर्थ में आरक्षण की व्यवस्था की गयी है। खेलों में दिव्यांग खिलाड़ियों को सामान्य खिलाड़ियों के बराबर सुविधाएं मिलेगी। दिव्यांग जन अब उ0प्र0 की परिवहन बसों में कहीं की निःशुल्क यात्रा कर सकते हैं।

दिव्यांग जन विकास मंत्री ने बताया कि स्कूलों में दिव्यांग बच्चों को पढ़ाने के लिए अलग से अध्यापक की व्यवस्था की गयी है, लेकिन जन सामान्य को इसकी जानकारी न होने कारण इसका लाभ दिव्यांग छात्रों को नहीं मिल पा रहा है। इस विषय में जन जागरूकता कार्यक्रम के माध्यम से लोगों को जागरूक बनाने की आवश्यकता है।

उन्होंने कहा कि अभिभावकों जागरूक बनाने की आवश्यकता है ताकि उन्हें यह विश्वास दिलाया जा सके कि उनका दिव्यांग बेटा भी पढ़ लिखकर उच्च अधिकारी, डाक्टर, इंजीनियर आदि बन सकता है, जिससे वे अपने दिव्यांग संतानों को पढ़ने के लिए स्कूल भेजें। शिक्षा नौकरी के लिए नहीं, बल्कि ज्ञान के लिए होनी चाहिए, जिससे कि वे अपने जीवन में सफलता प्राप्त कर सकें तथा समाज का कल्याण करने में अपना अमूल्य योगदान दे सकें।

राजभर ने कार्यक्रम के उपरान्त विभाग का औचक निरीक्षण भी किया। विभाग में दिव्यांगजनों के बारे में आने वाली शिकायतों के बारे में जानकारी ली। उन्होंने उपस्थित पंजिका का भी निरीक्षण किया तथा विभाग में उच्च अधिकारियों के कार्यों एवं बैठने की समय सारिणी की भी जानकारी ली। उन्होंने विभाग में ब्रेल प्रेस कक्ष का भी निरीक्षण किया जहां विभाग में उप निदेशक अनुपमा मौर्य ने मशीन के ठीक ढंग से कार्य न करने की शिकायत की तथा एक और मशीन उपलब्ध कराने का आग्रह किया जिसपर मंत्री जी ने मशीन उपलब्ध कराने का आश्वासन दिया।