Share

यूपी में सूरज का आग उगलना जारी, गर्मी व लू के कारण चार की मौत

लखनऊ || उत्तर प्रदेश की राजधानी सहित प्रदेश के अधिकतर जनपदों में सूरज का आग उगना सोमवार को भी जारी रहा। वही लगातार बढ़ती गर्मी के चलते प्रदेश में बिजली की मांग 15 हजार मेगावाट के आंकड़ा पार करके नये रिकार्ड पर पहुंच गई है। अचानक बढ़ी बिजली की इस मांग से आपूत्ति को सुधारने के पावर कारपोरेशन के सारे जतन फेल होते जा रहे है।

monksssसोमवार सुबह से ही सूरज के तेवर तल्ख हो गए इस कारण लोग दिन में घरों में दुबके रहे। पूर्वी व पश्चिमी उत्तर प्रदेश के कई जनपदों में प्रचंड गर्मी और लू की लपटों से लोग झुलसते रहे। गर्मी व लू के कारण प्रदेश में चार लोगों की मौत हो गयी। मौसम विभाग के निदेशक ने बताया कि अभी गर्मी से राजधानी वासियों को राहत नहीं मिलेगी। मंगलवार को मौसम शुष्क व साफ रहेगा।

दिन का तापमान 44 डिग्री सेल्सियस के आस-पास रहेगा। वही अचानक बढ़ी बिजली की इस मांग से आपूत्ति को सुधारने के पावर कारपोरेशन के सारे जतन फेल होते जा रहे है। संकट से निपटने के लिए ग्रामीण इलाकों में 16 घंटे और शहरी इलाकों में 8 से 10 घंटे की बिजली कटौती की जा रही है। पावर कारपोरेशन के सूत्रों ने बताया कि तापमान में अभूतपूर्व बढ़ोत्तरी विद्युत संकट को हवा दे रही है।

बिजली विभाग ने 14 हजार मेगावाट तक विद्युत मांग को पूरा करने के लिये समुचित इंतजाम किये थे जिसमें केन्द्रीय कोटे से आयात के अलावा निजी बिजलीघरों और बैंकिग के जरिए आयातित बिजली शामिल थी मगर भीषण गर्मी से विद्युत मांग के 15 हजार मेगावाट को पार कर जाने से सब किये कराये पर पानी फिर गया। लाइनों में गड़बड़ियों की तादाद में बढ़ोत्तरी हुई जर्जर ट्रांसफार्मर और लाइने हालांकि बिजली विभाग के शेड्यूल को धता बता रही है।

लोड सहने में अक्षम ट्रांसफार्मरों के फुंकने की आवृत्ति में जबरदस्त इजाफा हुआ है जबकि लाइनों में गड़बड़ियों की तादाद में बढ़ोत्तरी हुई है। बिजली के लिये मची मारामारी के बीच राहत की बात यह है कि पिछले दिनों आग लगने से ठप्प हुई राज्य सरकार के अधीन हरदुआगंज ताप संयत्र में खराब इकाई को दुरूस्त कर लिया गया है जिससे इस बिजलीघर में उत्पादन बढ़कर 460 मेगावाट पहुंच गया है। 1630 मेगावाट उत्पादन क्षमता वाले अनपरा ताप बिजली सयंत्र भी पूरी क्षमता से काम कर रहा है।

ओबरा पनकी और पारीछा ताप सयंत्रों में भी उत्पादन संतोषजनक है। पावर कारपोरेशन के प्रवक्ता ने बताया कि सुबह नौ बजे अनपरा ताप विद्युत गृह में 1498 मेगावाट बिजली का उत्पादन हो रहा था जबकि ओबरा में 334 मेगावाट पनकी में 165 मेगावाट पारीछा में 876 मेगावाट और हरदुआगंज में 460 मेगावाट बिजली का उत्पादन हो रहा था। गर्मी से राहत देने वाले एयरकंडीशनर और कूलर के बढ़ते इस्तेमाल से बिजली की मांग में जबरदस्त उछाल आया है और यह 15 हजार मेगावाट के आंकड़े को पार कर गया।

समूचे राज्य में बिजली के लिये मचे हाहाकार से कटौतीमुक्त राजधानी लखनऊ और ताजनगरी आगरा भी अछूती नही है। मुख्यमंत्री आवास से चंद कदमों की दूरी पर पार्क रोड़, हजरतगंज, गौतमपल्ली और माल एवन्यू समेत कई इलाकों में लोकल फाल्ट के नाम पर बिजली की आवाजाही बदस्तूर जारी है।