Share

यूपी में शहरों से लेकर ग्रामीणों तक अघोषित बिजली कटौती शुरू

लखनऊ || उत्तर प्रदेश में बढ़ते तापमान के कारण बिजली की डिमाण्ड 13 हजार मेगावाट के पार हो गयी है। जबकि प्रदेश में बिजली की उपलब्धता 12 हजार मेगावाट तक हो पा रही है। बिजली की प्रतिबन्धित मांग और उपलब्धता के बीच आये गैप को पाटने के लिए कारपोरेशन प्रबंधन ने 100 मेगावाट की अतिरिक्त बिजली की खरीद की, इसके बाद भी 1000 मेगावाट की कमी होने से रात में शहरों से लेकर ग्रामीणों तक को अघोषित बिजली कटौती की जा रही है।

powercut1पारीछा की 100 मेगावाट की एक यूनिट, हरदुआगंज के 250 मेगावाट की एक यूनिट से विद्युत उत्पादन ठप है। अनपारा डी की 500 मेगावाट की एक यूनिट के सिक्रेनाइज होने के बाद भी उत्पादन नहीं हो रहा है, ऐसे में राज्य हर दिन बिजली संकट गहराने की ओर बढ़ रहा है। बिजली की आंखमिचौली लोगों को बेचौन करने लगी है। कटौती मुक्त लखनऊ और आगरा समेत कई क्षेत्रों में बिजली की आवाजाही पिछले 48 घंटे के दौरान बढ़ गयी है।

बिजली के आने का इंतजार रहता हरदोई के ग्रामीण क्षेत्रों में तो लोगों को बिजली के आने का इंतजार रहता है, लेकिन आते ही जाने में देर नहीं लगती। तापमान में दो से पांच डिग्री सेल्सियस की बढोत्तरी से बिजली की मांग 25 फीसदी तक बढ़ गयी है। पिछले सप्ताह तक प्रदेश में बिजली की मांग 10500 हजार मेगावाट तक रहती थी, जो अब 13 हजार मेगावाट के आंकड़े को पार कर गयी है। बायलर ट्यूब में विस्फोट के बाद हरदुआगंज में उत्पादन अभी पूरी तरह पटरी पर नही लौट सका है और 665 मेगावाट वाले इस ताप संयंत्र में दोपहर तक 250 मेगावाट तक बिजली बन रही थी।

ग्रामीण क्षेत्रों में करीब 11 घंटे बिजली आपूित्त का प्रावधान उधर कानपुर में स्थित पनकी ताप बिजलीघर में 110 मेगावाट की इकाई के तकनीकी कारणों के बंद रहने और इतनी ही उत्पादन क्षमता वाली इकाई के आधी रफ्तार से चलने से पावर कारपोरेशन की मुसीबतों में इजाफा हुआ है। प्रदेश को अभी 12000 मेगावाट बिजली मिल रही है, इसमें केन्द्र से 5500 मेगावाट व राज्य में विभिन्न सेक्टर से 6500 मेगावाट बिजली की उपलब्धता शामिल है।

शेडयूल के अनुसार ग्रामीण क्षेत्रों में करीब 11 घंटे बिजली आपूित्त का प्रावधान है जबकि तहसील क्षेत्रों में यह सीमा 15 घंटे निर्धारित की गयी है। जिलों में 21 घंटे बिजली आपूत्ति की जा रही है हालांकि महानगरों को फिलहाल कटौती से मुक्त रखने का है। इसके बावजूद राज्य के कई इलाकों में कटौती के तय शेड्यूल के मुताबिक 13 घंटे तक की बिजली कटौती की गयी।