Share

पीएम मोदी के चुनाव क्षेत्र से स्वच्छ विद्यालय अभियान की शुरूआत

वाराणसी, 15 मई || प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के अच्छे दिनों के वादे के मद्देनजर उनके ही चुनाव क्षेत्र से भारतीय स्टेट बैंक और सुलभ इंटरनेशनल ने स्वच्छ विद्यालय अभियान की शुरूआत की है। इस अभियान की शुरूआत के लिए भारतीय स्टेट बैंक और सुलभ इंटरनेशनल ने ऐतिहासिक और पौराणिक नगरी वाराणसी को खासतौर पर चुना है। वाराणसी के शिवपुर इलाके के एक प्राथमिक स्कूल में बने टायलेट के उद्घाटन के साथ स्वच्छ विद्यालय अभियान का शुभारंभ भारतीय स्टेट बैंक की चेयरमैन अरूंधती भट्टाचार्य और सुलभ इंटरनेशनल के संस्थापक डॉक्टर बिंदेश्वर पाठक ने किया।सुलभ इंटरनेशनल के सस्ते टायलेट के जरिए स्वच्छता अभियान को बढ़ावा देने की कोशिश की अरूंधती भट्टाचार्य ने जमकर प्रशंसा की।

modipmअरूंधती ने कहा कि उन्हें भरोसा है कि सुलभ की विशेषज्ञता के चलते स्वच्छ विद्यालय अभियान को जबर्दस्त कामयाबी मिलेगी। इस मौके पर डॉक्टर बिंदेश्वर पाठक ने स्टेट बैंक का आभार जताते हुए कहा कि बैंक ने प्राइमरी स्कूलों में स्वच्छता अभियान की पहल को अहमियत दी है। डॉक्टर पाठक ने उम्मीद जताई कि इस अभियान से प्रधानमंत्री मोदी के स्वच्छ भारत अभियान का सपना पूरा करने में मदद मिलेगी। इस मौके पर स्टेट बैंक की चेयरमैन अरूंधती भट्टाचार्य ने ऐलान किया कि देश में शत-प्रतिशत शौचालय के पीएम के अभियान को पूरा करने की दिशा में बैंक हर राज्य में कम से कम एक जिले को गोद लेगा। उन्होंने बताया कि बैंक ने नौ राज्यों में स्वच्छ विद्यालय अभियान की शुरूआत की है और वहां स्कूलों में टायलेट का निर्माण जारी है।

उन्होंने कहा कि इस मद में बैंक 20 करोड़ रूपए खर्च करेगा। गौरतलब है कि ऐतिहासिक शहर वाराणसी की स्वच्छता की दिशा में सुलभ की ये कोई नई पहल नहीं है। सुलभ संगठन दशकों से यहां शौचालय चला रहा है और कुछ घाटों की सफाई और रखरखाव का भी जिम्मा ले रखा है। हाल ही में सुलभ ने ना सिर्फ यहां के मशहूर अस्सी घाट की सफाई की, बल्कि कीचड़ में डूबी करीब 25 सीढ़ियों की सफाई भी कराई है। जो दशकों से बनी हुई थीं और कीचड़ में डूबी हुई थीं। मशहूर काशी विश्वनाथ मंदिर की भी संगठन ने सफाई कराई है। इस मौके पर डॉक्टर बिंदेश्वर पाठक ने कहा कि स्टेट बैंक की मदद से सुलभ पूरे देश के ग्रामीण इलाकों में भी स्वच्छता की सहूलियत मुहैया कराएगा। कारपोरेट सोशल रिस्पॉंसबिलिटी यानी सीएसआर के तहत सुलभ सार्वजनिक क्षेत्र की कई इकाइयों और कारपोरेट घरानों के साथ काम कर रहा है। इसके जरिए सुलभ पूरे देश में सार्वजनिक और निजी टायलेट का निर्माण कर रहा है।

भारत में गरीबों को सस्ती स्वच्छता तकनीक मुहैया कराने की दिशा में काम करने वाला अग्रणी संस्थान सुलभ इंटरनेशलन है। सीएसआर याेजना के तहत एयरटेल भारती फाउंडेशन ने पंजाब के लुधियाना जिले में शत-प्रतिशत शौचालय कवरेज अभियान को पूरा करने के लिए सुलभ इंटरनेशनल के साथ हाथ मिलाया है। इसके तहत पूरे जिल में करीब 12 हजार टायलेट बनाए जाने हैं। हाल ही में शुरू कई कारपोरेट घरानों की सीएसआर पहल के तहत सुलभ ने लक्षित गांवों का सर्वे किया है और वहां निजी उपयोग के लिए टायलेट बनाकर दिए जाने वाले परिवारों की पहचान की है। इसके साथ ही सुलभ देश के तमाम इलाकों में स्वच्छता को लेकर अभियान के जरिए लोगों में जागरूकता फैलाने का भी काम कर रहा है।