Share

अखिलेश यादव ने एटा में 51 हजार करोड़ की परियोजनाओं का लोकार्पण व शिलान्यास किया

लखनऊ ।। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने कहा कि बिजली उत्पादन बढ़ाने की कड़ी मंे 10556.27 करोड़ रुपये की लागत वाली जवाहरपुर तापीय परियोजना प्रदेश में ऊर्जा के विकास एवं उत्पादन का एक नया आयाम स्थापित करेगी। उन्होंने कहा कि इस परियोजना की स्थापना के लिए जनपद एटा का चयन क्षेत्र के विकास में मील का पत्थर साबित होगा।

jhpइस प्रोजेक्ट से किसानों की भूमि की कीमत में इजाफा होगा, बेरोजगारों एवं मजदूरों को रोजगार मिलेगा। परियोजना से जनपद एटा ही नहीं बल्कि आस-पास के अन्य जिलों का भी विकास होगा। जवाहरपुर में 660 मेगावाॅट उत्पादन की 2 इकाइयों की स्थापना की जायेगी, जिससे 1320 मेगावाॅट बिजली का उत्पादन होगा। उन्होंने आने वाले समय में एटा को आदर्श जिला बनाये जाने की भी घोषणा की।

मुख्यमंत्री जनपद एटा में जवाहरपुर तापीय परियोजना सहित अन्य विकास परियेाजनाओं के शिलान्यास व लोकार्पण कार्यक्रम को सम्बोधित कर रहे थे। इस अवसर पर उन्होंने 51 हजार करोड़ रुपये से अधिक लागत की जवाहरपुर तापीय परियोजना तथा अन्य विकास परियोजनाओं का शिलान्यास व लोकार्पण किया।

ऊर्जा के क्षेत्र में जवाहरपुर तापीय परियोजना के शिलान्यास के साथ ही मुख्यमंत्री ने ओबरा-सी तापीय परियोजना जिला सोनभद्र, जनपद अलीगढ में हरदुआगंज सहित सोनभद्र अनपरा डी की 7 वीं इकाई बारा तापीय विद्युत परियोजना, इलाहाबाद की इकाई संख्या 1 एवं 2, ललितपुर तापीय परियोजना की इकाई संख्या 2 व 3 सहित उत्तर प्रदेश पावर ट्राॅसमिशन कारपोरेशन लि0 की पी.पी.पी. आधारित मैसर्स एस.ई.यू.पी.पी.टी.सी.एल. (ओसोलक्स) द्वारा निर्मित बारा मैनपुरी पारेषण परियोजना के अन्तर्गत 765 के0वी0 उपकेद्र मैनपुरी, 400 के.वी. उपकेंद्र रीवा रोड एवं सम्बन्धित लाइनों का भी लोकार्पण किया। इसके साथ ही उन्होंने कोबरा-मेघा मैसर्स डब्ल्यू.यूपीटीसीएल द्वारा निर्मित मैनपुरी-ग्रेटर नोएडा पारेषण परियोजना के तहत 765 केवी उपकेंद्र ग्रेटर नोएडा, 400 केवी उपकेंद्र सिकन्दराबाद एवं सम्बन्धित लाइनों का लोकार्पण किया।

ज्ञातव्य है कि जवाहरपुर तापीय परियोजना की कुल लागत 10556.27 करोड़ रुपये है। इसकी प्रथम इकाई 48 माह में और दूसरी इकाई 52 माह में बिजली उत्पादन आरम्भ कर देगी। परियोजना से उत्पादित शत प्रतिशत बिजली प्रदेश के विकास में ही इस्तेमाल होगी। परियोजना में एटा तहसील के गांव अयार, बबरौती नसीरपुर, बिरसिंहपुर, मलावन एवं निगोह हसनपुर की लगभग 350 हेक्टेयर भूमि का अधिग्रहण कर किसानों का मुआवजा भी दिया जा चुका है।